Smart Indian Home
Smart Indian Articles
Smart Indian Search
Smart Indian News
Smart Indian Bazaar
SmartIndian Health
Smart Indian Contact
Smart Indian Stories
Smart Indian Poetry
Anurag Sharma


   
 

आलस्य    (अनुराग शर्मा)

आलस्य

छह बोले तो सात है, सात कहें तो आठ
कभी समय पर चले नहीं, ऐसे अपने ठाठ

ऐसे अपने ठाठ, कभी मजबूरी होवे
तो भी राम भरोसे हो के लंबी तान के सोवें

सोते से जो कोई मूरख कभी जगा दे
पछतावेंगे उसके तो दादे परदादे

दादे तो अपने भी समझा समझा हारे
ख़ुद ही हार गए हमसे आख़िर बेचारे ।


© Anurag Sharma